Business GDP

SBI Research expressed hope about the economy

New Delhi/ Indian GDP- The Indian economy has gained momentum following the end of the lockdown imposed due to the Corona epidemic. While the stock market has surpassed historical levels due to increase in foreign investment, SBI Research has also given good news about GDP. The latest SBI Research report on the Indian economy has claimed that GDP growth could be around seven per cent in the financial year ending in March 2021. It is worth noting that earlier the country’s largest bank SBI had estimated a contraction of 7.4 percent in GDP during the year 2020-21. The latest research by the State Bank of India said that despite the GDP growth in the third and fourth quarters, the Indian economy is projected to shrink by seven percent in the current financial year. The results of the third quarter of GDP can be announced this month and it is expected to bring good news.
SBI Chief Economic Advisor Soumya Kanti Ghosh has said that there is a 51 per cent jump in 41 important indices, which could lead to a GDP growth of 0.3 in the current third quarter. This means that the third quarter results are positive signals about GDP. With this, the economic growth in the fourth quarter could be 2.5 per cent. SBI’s research predicts economic growth to be 11 percent in the next financial year 2021-22. Apart from this, the next year’s GDP is also likely to be 11 percent in the Economic Review, but in this case, the SBI survey estimates that the GDP could be 10.5 percent next year.

SBI रिसर्च ने अर्थव्यवस्था को लेकर जताई ये उम्मीद

नई दिल्ली Indian GDP। कोरोना महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन के खत्म होने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी आई है। विदेशी निवेश में बढ़ोतरी के चलते शेयर बाजार जहां ऐतिहासिक स्तर को पार कर रिकॉर्ड बना चुका है, वहीं एसबीआई रिसर्च ने भी जीडीपी को लेकर खुशखबरी दी है। भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर एसबीआई रिसर्च की ताजा रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मार्च 2021 में खत्म हो रहे वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ सात फीसदी के आसपास रह सकती है। गौरतलब है कि इससे पहले देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई ने साल 2020-21 के दौरान जीडीपी में 7.4 प्रतिशत के संकुचन का अनुमान लगाया था। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ताजा रिसर्च में कहा गया है कि तीसरी और चौथी तिमाही में जीडीपी बढ़ोतरी के बावजूद चालू वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था सात प्रतिशत संकुचित होने का अनुमान है। जीडीपी की तीसरी तिमाही के नतीजे इस माह घोषित किए जा सकते हैं और इसमें अच्छी खबर आने की उम्मीद जताई जा रही है।
एसबीआई के मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्य कांति घोष ने कहा है कि 41 महत्वपूर्ण सूचकांकों में 51 प्रतिशत का उछाल है, जिससे मौजूदा तीसरी तिमाही में जीडीपी में 0.3 की बढ़ोतरी हो सकती है। इसका मतलब यह है कि तीसरी तिमाही के परिणाम जीडीपी को लेकर सकारात्मक संकेत देने वाले हैं। इसके साथ ही चौथी तिमाही में आर्थिक वृद्धि 2.5 फीसदी हो सकती है। एसबीआई की रिसर्च में अगले वित्त वर्ष 2021-22 में आर्थिक वृद्धि 11 प्रतिशत रहने की संभावना जताई गई है। इसके अलावा आर्थिक समीक्षा में भी अगले वर्ष की जीडीपी 11 फीसदी रहने की संभावना है, लेकिन इस मामले में एसबीआई सर्वे का अनुमान है कि अगले वर्ष जीडीपी 10.5 फीसदी रह सकती है।

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0302202