Chhattisgarh कांग्रेस पार्टी

हारे नेता कैसे जिताएंगे लोकसभा चुनाव- रजनी पाटिल

एक विधानसभा नहीं जीतने वाले कैसे 8 विधानसभा वाले लोकसभा में जीतेंगे नए कैंडिडेट को मैदान में उतारने में ही सर्वे लाभदायक साबित होगा

रायपुर । सांसद और कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की प्रमुख रजनी पाटिल का दावा है कि सर्वे रिपोर्ट के आधार पर जल्द ही छत्तीसगढ़ में प्रत्याशियों की घोषणा कर दी जाएगी। सवाल यह उठता है कि विधानसभा चुनाव में हारे-लुटे-पीटे नेताओं को ही यदि मैदान में उतारना है तो सर्वे के आधार पर टिकट देना न्याय संगत नहीं होगा, क्यों कि वही चेहरे मैदान में जाएंगे तो मतदाता पोलिंग बूथ तक जाएंगे ही नहीं। इसलिए यदि नए कैंडिडेट को लोकसभा के मैदान में उतारते है तो ही सर्वे फायदेमंद हो सकता है नहीं तो यह सिर्फ ढकोसला साबित होगा।
रजनी पाटिल ने कहा कि चुनाव समिति की बैठक में संभावित उम्मीदवारों को लेकर सार्थक चर्चा हुई है। किस तरह की रणनीति बनाकर चुनाव में जाएं इस पर रायशुमारी की गई है। आगामी सप्ताह में दिल्ली में बैठक के बाद उम्मीदवारों की घोषणा कर दी जाएगी। पूर्व मंत्रियों को चुनाव मैदान में उतारने के मामले में स्क्रीनिंग प्रमुख ने कहा कि अलग-अलग मापदंड के आधार पर ही उम्मीदवार का चयन किया जाएगा। पाटिल के मुताबिक कांग्रेस की सर्वे रिपोर्ट भी 30 जनवरी तक आ जाएगी। इसके बाद प्रत्याशियों की घोषणा की जाएगी।
हारे हुए मंत्रियों को लोकसभा का टिकट देना समझ से परे है। जो मंत्री अपनी विधानसभा सीट नहीं बचा पाया वो कैसे लोकसभा क्षेत्र के 8 विधानसभा में जीत दर्ज करेंगे। पूर्व मंत्रियों को टिकट देने से कांग्रेस को एक फायदा होगा कि उसे फंडिंग का इंतजाम नहीं करना पड़ेगा। पूर्व मंत्री अपने खर्चे से भी लड़ सकते है। यहां सर्वे के नाम पर नए और जीताऊ उम्मीदवारों की अनदेखी तो नहीं कर रही है कांग्रेस यह विचारणीय प्रश्न है। क्योंकि सर्वे रिपोर्ट मौजूदा सरकार के रहते तैयार हुई होगी और अब मामला ही उलट हो चुका है, ऐसे में नए उम्मीदवार ही ज्यादा सफल हो सकते है। यह भाजपा का फार्मूला है जिस पर सबसे ज्यादा सफल रहा है।

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0504358