National New Delhi Politics

राहुल गांधी के अविश्वास प्रस्ताव भाषण से हटाए गए ये शब्द

नई दिल्ली । अविश्वास प्रस्ताव के बहस के दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बुधवार को अपनी बात रखी। ताजा खबर है कि कांग्रेस नेता के भाषण से कुछ शब्द हटा दिए गए हैं। ये शब्द हैं, ‘हत्या’, ‘हत्यारे’, ‘कत्ल, ‘देशद्रोही’।

कांग्रेस ने जताई आपत्ति – कांग्रेस ने लोकसभा सचिवालय की इस कार्रवाई पर आपत्ति दर्ज करवाई है। लोकसभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा, “राहुल गांधी ने अविश्वास प्रस्ताव पर भाषण में कुछ भी गलत नहीं कहा। क्या राहुल गांधी को भारत माता कहने का हक नहीं है? यह सब उनकी छवि को धूमिल करने के लिए किया जा रहा है।”

राहुल गांधी के भाषण की बड़ी बातें – स्मृति ईरानी का बड़ा आरोप, ‘लोकसभा से जाते हुए राहुल गांधी ने किया फ्लाइंग किस का इशारा’
स्मृति ईरानी का बड़ा आरोप, ‘लोकसभा से जाते हुए राहुल गांधी ने किया फ्लाइंग किस का इशारा’
भाजपा ने मणिपुर में “भारत माता की हत्या” की है। इसीलिए ये देशभक्त नहीं, देशद्रोही हैं, भारत माता के रखवाले नहीं, हत्यारे हैं।
प्रधानमंत्री मणिपुर को देश का हिस्सा नहीं मानते। भाजपा की नफरत की राजनीति ने मणिपुर को बांट दिया है। मणिपुर के बाद हरियाणा और पूरे देश को जला रहे हैं।
भविष्य के लिए मील का पत्थर साबित होगा डिजिटल पर्सनल डेटा संरक्षण बिल: केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर
भविष्य के लिए मील का पत्थर साबित होगा डिजिटल पर्सनल डेटा संरक्षण बिल: केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर
सेना एक दिन में मणिपुर की स्थिति ठीक कर सकती है, मगर सरकार ऐसा करने नहीं दे रही। भारत हमारी जनता के दिल की आवाज है और मणिपुर में उस आवाज की हत्या कर इन्होंने वहां भारत माता की हत्या की है।
कुछ दिनों पहले मैं मणिपुर गया था। हमारे प्रधानमंत्री अभी तक वहां नहीं गए हैं। वह मणिपुर को भारत का हिस्सा नहीं मानते। मैंने मणिपुर शब्द का इस्तेमाल किया, लेकिन हकीकत यह है कि वहां कोई मणिपुर नहीं बचा है।
प्रधानमंत्री मणिपुर नहीं जा सकते, क्योंकि उन्होंने मणिपुर में हिंदुस्तान की हत्या की है। इनकी (भाजपा) राजनीति ने मणिपुर की हत्या नहीं की है, बल्कि मणिपुर में हिंदुस्तान की हत्या की है। मेरी मां (सोनिया गांधी) यहां बैठी हैं और दूसरी मां भारत माता है, जिसकी आपने मणिपुर में हत्या की है। जब तक आप मणिपुर में हिंसा नहीं रोकते, आप मेरी मां की हत्या कर रहे हैं।
जैसे रावण केवल दो लोगों मेघनाद और कुंभकरण की बात सुनता था, प्रधानमंत्री केवल दो लोगों अमित शाह और गौतम अदाणी की बात सुनते हैं।

About the author

Mazhar Iqbal #webworld

Indian Journalist Association
https://www.facebook.com/IndianJournalistAssociation/

Add Comment

Click here to post a comment

Live Videos

Breaking News

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0489345