Education

तेरहवीं स्कूल लीडरशिप समिट संपन्न

शिक्षा वह प्रक्रिया है जिसके माध्यम से एक व्यक्ति ज्ञान प्राप्त करता है या नए कौशल सीखता है; और विद्यालय के प्राचार्य ऐसे नायक हैं जो बच्चों को अच्छे शैक्षिक अभ्यासों के प्रावधान के माध्यम से प्रबुद्ध नागरिकों में बदलते हैं। छत्तीसगढ़ में स्कूल शिक्षा के परिदृश्य का पता लगाने के उद्देश्य से, 27 सितम्बर , 2019 को रायपुर के सयाजी होटल में 13 वीं स्कूल स्कूल लीडरशिप समिट का आयोजन किया गया। इस सम्मलेन का आयोजन ओपी जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़, एवं एलेट्स द्वारा जिसे हाल ही में भारत के एक उभरते विश्वविद्यालय और भारत के सबसे भरोसेमंद तकनीकी विश्वविद्यालय के रूप में मान्यता दी गई है, उनके सहयोग से किया गया।
इस समिट का उद्घाटन ओपी जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़ के कुलपति डॉ. आर.डी. पाटीदार ने विशिष्ट अतिथियों श्री शिव अनंत तायल (आईएएस), कमिश्नर, रायपुर नगर निगम, डॉ. बी. के. स्थापक, पूर्व-चांसलर, ओपी जिंदल विश्वविद्यालय, रायगढ़, डॉ. संजीव पी. साहनी, प्रिंसिपल डायरेक्टर, जिंदल इंस्टीट्यूट ऑफ बिहेवियरल साइंसेज, जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी, सोनीपत, हरियाणा और छत्तीसगढ़ के नामी स्कूलों के प्रिंसिपल की उपस्थिति में किया। डिजिटल लर्निंग मैगज़ीन के राष्ट्रीय प्रबंधक श्री चंदन आनंद ने अतिथियों का स्वागत किया और प्रतिभागियों को समिट के विषय और उद्देश्यों के बारे में बताया। डॉ. आर. डी. पाटीदार ने श्रोताओं को संबोधित करते हुए कहा कि महान स्कूलों में महान शिक्षक होंगे जो शिक्षण से प्यार करते हैं और महान विज़न के साथ अध्यापन कार्य करते हैं। हमारा विज़न एक सुंदर स्कूल बनाने के लिए होनी चाहिए, जहाँ खुश युवा जो पेशेवर रूप से कुशल एवं नैतिक रूप से ईमानदार हैं, बनाये जा सके। एक महान स्कूल ज्ञान और मूल्य प्रणाली के साथ छात्रों को बदल देगा। डॉ. बी. के. स्थापक ने कहा कि यह विचार करना महत्वपूर्ण है कि शिक्षा के अंत में छात्र अपने साथ क्या ले जा रहे हैं। उन्हें ज्ञान और मूल्यों को लेकर चलना चाहिए। ज्ञान और मूल्यों का संयोजन ही प्रबुद्ध नागरिकों को उत्पन्न कर सकता है। श्री शिव अनंत तायल ने मौजूदा स्कूलों के वर्तमान परिदृश्य, बच्चों पर प्रौद्योगिकियों के प्रभाव और स्कूल के नेताओं की भूमिकाओं के बारे में बात की। डॉ. संजीव साहनी ने 21 वीं सदी की शैक्षिक चुनौतियों और स्थायी भविष्य के लिए उनका सामना करने के तरीके पर चर्चा की। अतिथियों द्वारा डिजिटल लर्निंग पत्रिका को भी लॉन्च किया गया। समिट के दूसरे सत्र के दौरान टोर्निस एन्थम और फरदोस स्कूल आफ म्यूजिक द्वारा इंडस्ट्री प्रेसेंटेशन्स दिए गए। ड्राफ्ट नई शिक्षा नीति : भारत की स्कूल शिक्षा प्रणाली के लिए एक नई और आगे की दृष्टि बनाने के लिए आवश्यक प्रमुख सुधार विषय पर एक पैनल डिस्कशन हुआ। डॉ. संजीव पी. साहनी ने तनाव प्रबंधन और प्रदर्शन बढ़ाने पर एक कार्यशाला का आयोजन किया, जिसका सभी प्रतिभागियों और प्रतिनिधियों ने आनंद लिया और सराहना की। तीसरे और चौथे सत्र के दौरान, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और बिग डेटा इन एजुकेशन , स्कूलों के बीच सहयोगात्मक और डिजिटल शिक्षा को सरल बनाने के लिए एडटेक सॉल्यूशन प्रोवाइडर्स, स्कूली शिक्षा में पुनर्परिभाषित मूल्यांकन और शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कल्याण क्यों एक छात्र के समग्र विकास में आवश्यक तत्व थे विषयों पर परिचर्चा हुई। डॉ. आर.डी. पाटीदार ने यूनिवर्सिटी पर्सपेक्टिव पर एक प्रेजेंटेशन किया। समिट में 150 से अधिक संख्या में स्कूलों प्रिंसिपल एवं प्रतिनिधि उपस्थित थे। समिट के अंतिम सत्र में स्कूलों और स्कूलों के नायको को स्कूली शिक्षा और भारत के भविष्य के निर्माण में उनके अनुकरणीय योगदान के लिए सम्मानित किया गया । स्कूल लीडरशिप समिट तकनीकी शिक्षा हस्तक्षेपों द्वारा सशक्त बेहतरीन प्रथाओं और नवाचारों पर विचार-विमर्श करने के लिए विभिन्न शिक्षा हितधारकों को एकत्रित करने में सफल रहा; और स्थायी भविष्य के लिए एक रास्ता दिखाने में भी सफल रहा। अंत में, आयोजकों ने सभी अतिथियों, प्रतिभागियों, मीडिया, प्रायोजकों और सह-समन्वयकों का आभार व्यक्त किया।

Follow us on facebook

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0504026