New Delhi U P

पैगंम्बर इस्लाम पर टिप्पणी बर्दाश्त नहीं की जाएगी – मिन्नत गोरखपुरी

गोरखपुर, उत्तर प्रदेश।

नरसिंहानंद की अध्यक्षता में राजधानी में हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कथित रूप से इस्लाम और पैगंबर मोहम्मद साहब के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की एक वीडियो वायरल हो रही है जिस पर गोरखपुर शहर के युवा समाजसेवी,शायर, साहित्यकार एवं लेखक व राष्ट्रीय प्रवक्ता राष्ट्रीय मानवाधिकार संघ_भारत ई.मो.मिन्नतुल्लाह मिन्नत गोरखपुरी ने प्रेस को जारी एक बयान में कहा है कि हमारे नबी की शान में गुस्ताखी करने वाले पर सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि गंदी मानसिकता के कुछ लोगों ने हजरत मोहम्मद साहब की शान में गुस्ताखी की है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मिन्नत गोरखपुरी ने कहा कि पैगंबर मोहम्मद साहब ने इंसान को हैवानियत से निकाल कर इंसानियत के रास्ते पर चलाया। मोहम्मद साहब का चरित्र दुनिया में सर्वोत्तम है। साथ ही साथ उन्होंने कहा कि पिछले कई वर्षों से देखा जा रहा है कि आए दिन कुछ लोग इस्लाम धर्म और पैगंबर मोहम्मद साहब के बारे में गलत टिप्पणी करते रहते हैं मगर उन पर कोई कानूनी कार्रवाई नहीं की जाती है। जिससे कि वह इस तरह के बयान देकर अपना प्रचार प्रसार कर रहे हैं और आपसी भेदभाव पैदा करते हैं। मिन्नत गोरखपुरी ने कहा कि मुसलमान अमन पसंद है वह शांति और भाईचारे के साथ रहना पसंद करता है लेकिन कुछ लोगों को यह बात पसंद नहीं आती। और आये दिन वह इस्लाम और पैगंबर साहब के बारे में गलत टिप्पणी करते हैं जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।इस्लाम ने हमेशा इंसानियत का पैगाम दिया है यह भलाई का धर्म है। साथ ही साथ मिन्नत गोरखपुरी ने सरकार से मांग की की नरसिंहानंद की टिप्पणी से देश में अशांति का माहौल बन सकता है इसलिए नरसिंहानंद पर सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए ताकि आइंदा कोई ऐसी गुस्ताखी करने की जुर्रत न करें।

मुसलमानों की भावनाओं को ठेस पहुँचाकर देश मे अराजकता का माहोल पैदा किया जा रहा- अहसन मियां

बरेली, उत्तर प्रदेश।

दरगाह आला हज़रत के सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन रज़ा क़ादरी ने कहा कि हाल फिलहाल के दिनों में कुछ दहशतगर्द जो मुल्क के अमन और शांति के खतरा है वो लोग सस्ती शोहरत हासिल करने के लिए इस्लाम, क़ुरान और पैगम्बर-ए-इस्लाम पर गलत बयानबाजी कर रहे है । इन कट्टरपंथियों पर सख्त नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए मुफ्ती अहसन मियां ने कहा कि इस्लाम के खिलाफ अभ्रद भाषा का प्रयोग कर मुल्क में कुछ शर पसंद लोग अराजकता का माहोल पैदा कर रहे है । ऐसे लोग समाज ही नही बल्कि मुल्क की एकता और भाईचारे के भी दुश्मन है । जो नफ़रत की राजनीति कर लोगो को बांटने का काम कर रहे है फिर चाहे वो वसीम रिज़वी हो या नरसिंहानंद सरस्वती इनके खिलाफ हुक़ूमत स्वतः संज्ञान लेकर सख्त से सख्त कार्यवाही करे । इन लोगो की सही जगह जेल है । अगर हमारे नबी की इज़्ज़त की बात आएगी तो मुसलमान खुद अपना सर कटा सकता है लेकिन अपने मज़हब, अपने क़ुरान और अपने नबी की अज़मत पर रत्ती भर भी आंच न आने देगा । मुल्क भर के उलेमा, दानिशवर और मुसलमानों में बेहद आक्रोश है । शासन व प्रशासन जल्द इस पर कोई कार्यवाही नही करता है तो मुसलमानों को सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करने पर मजबूर होना पड़ेगा ।
मुफ्ती कफील हाशमी, मौलाना ज़ाहिद रज़ा, मौलाना बशीर उल क़ादरी, कारी रिज़वान रज़ा, शाहिद नूरी, नासिर क़ुरैशी, परवेज़ नूरी, अजमल नूरी, ताहिर अल्वी, औरंगज़ेब नूरी, हाजी जावेद खान, शान रज़ा, मंज़ूर खान आदि ने भी मज़म्मत की ।

Live Videos

Breaking News

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0262813