Chhattisgarh COVID-19 National

Chief Minister expresses profound grief on sad demise of Mr. Motilal Vora, Ex-Chief Minister of undivided Madhya Pradesh

”Babuji Motilal Vora’s demise is an irreparable loss not only for Chhattisgarh but also for entire Congress Family, we have lost a guardian, said Chief Minister Mr. Baghel

Raipur, 21 December 2020

Mr. Motilal Vora, the man who served as Chief Minister of undivided Madhya Pradesh twice and as Governor of Uttar Pradesh once, passed away today. Chief Minister of Chhattisgarh Mr. Bhupesh Baghel has expressed profound grief on the sad demise of Mr. Motilal Vora. Paying a humble tribute to late Shri Vora, Mr. Baghel said that his demise is an irreparable loss to not only Chhattisgarh but to entire Congress family. We have lost a guardian. He started his political career from scratch and made his way to the national-level. He was a dedicated member of Congress party all his life. Chief Minister said that-“Babuji Shri Vora was one of the important people in my life, from whom I had learnt a lot about politics. Chief Minister Mr. Baghel prayed for the departed soul to rest in peace and deeply empathized with the grief-stricken family of Shri Vora.
Mr. Baghel said that it was yesterday, when Babu Ji’s 93rd birthday was celebrated. No one expected this tragic news today. He said that as Chief Minister of undivided Madhya Pradesh, Mr. Vora had made immense contribution to the all-round development of the then Chhattisgarh region. He had started his public life from journalism. In year 1968, Shri Vora was elected as Corporator of Durg Municipal Corporation. In year 1972, he was elected as Congress MLA for the first time. Later, in year 1977 and 1980 again, he was elected as MLA. The then Chief Minister of Madhya Pradesh Mr. Arjun Singh had appointed him as Cabinet Minister. He served as Chief Minister undivided Madhya Pradesh twice. He had also rendered his services as Governor of Uttar Pradesh and as Union Minister.

अविभाजित मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री श्री मोतीलाल वोरा के निधन पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गहरा दुख व्यक्त किया

बघेल ने कहा है कि बाबूजी श्री मोतीलाल वोरा जी का जाना न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि पूरे कांग्रेस परिवार के लिए एक अभिभावक के चले जाने जैसा

उनकी जगह कभी नहीं भरी जा सकेगी

मैंने अपनी राजनीति का ककहरा जिन लोगों से सीखा, उनमें बाबूजी एक थे

रायपुर, 21 दिसंबर 2020

अविभाजित मध्यप्रदेश में दो बार मुख्यमंत्री और उत्तरप्रदेश में राज्यपाल रह चुके वरिष्ठ कांग्रेस नेता श्री मोतीलाल वोरा के निधन पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। श्री बघेल ने कहा है कि बाबूजी श्री मोतीलाल वोरा जी का जाना न केवल छत्तीसगढ़ बल्कि पूरे कांग्रेस परिवार के लिए एक अभिभावक के चले जाने जैसा है। जमीनीस्तर से राजनीति शुरु करके राष्ट्रीय स्तर पर उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई और आजीवन एक समर्पित कांग्रेसी बने रहे। उनकी जगह कभी नहीं भरी जा सकेगी। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा – मैंने अपनी राजनीति का ककहरा जिन लोगों से सीखा, उनमें बाबूजी एक थे। अविभाजित मध्यप्रदेश से लेकर छत्तीसगढ़ तक वे हम कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए एक पथ प्रदर्शक थे। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे और परिवार को इस कठिन समय में दुख सहने की शक्ति प्रदान करे।
श्री बघेल ने कहा कि कल ही बाबूजी श्री वोरा का 93 वां जन्मदिन मनाया गया, किसी ने कल्पना नहीं की थी कि आज ऐसी दुखद खबर सुनने को मिलेगी। उन्होंने कहा कि अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में श्री वोरा ने तत्कालीन छत्तीसगढ़ अंचल के चहुंमुखी विकास के लिए अपना अमूल्य योगदान दिया। उन्होंने पत्रकारिता से अपने सार्वजनिक जीवन की शुरुआत की थी। वर्ष 1968 में वे दुर्ग नगर निगम में पार्षद निर्वाचित हुए। वर्ष 1972 में वे पहली बार कांग्रेस से विधायक बने। इसके बाद 1977 और 1980 में भी विधायक निर्वाचित हुए। मध्यप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री अर्जुन सिंह ने उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया। वे दो बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बने। उत्तरप्रदेश के राज्यपाल और केंद्रीय मंत्री के रूप में भी अपने दायित्वों का निर्वहन किया।

Follow us on facebook

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0493246