Chhattisgarh State

खाद्य सचिव एवं कलेक्टर ने किया आरंग विकासखंड के धान खरीदी केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण

समितियों के माध्यम से धान खरीदी का कार्य प्रारंभ

कम गुणवत्ता के धान और अव्यवस्था पाये जाने पर
दो प्रबंधक निलंबित

रायपुर 1 दिसम्बर 2019/ रायपुर जिले सहित छत्तीसगढ़ राज्य में आज 1 दिसम्बर से सहकारी समितियों के धान खरीदी केन्द्र के माध्यम से धान खरीदी का कार्य शुरू हो गया। इन केन्द्रों में किसानों को पूर्व में दिए गए टोकन के माध्यम से धान खरीदी का कार्य प्रारंभ किया गया । धान खरीदी का कार्य 15 फरवरी 2020 तक जारी रहेगा। इसी तरह आज से मक्का खरीदी का कार्य भी इन केन्द्रों में प्रारंभ हो गया है, जो 31 मई 2020 तक जारी रहेगा।
खाद्य सचिव डॉ कमलप्रीत और रायपुर जिले के कलेक्टर डॉ एस भारतीदासन ने आरंग विकासखंड के अनेक धान खरीदी केन्द्रों का आकस्मिक रूप से निरीक्षण कर उपलब्ध व्यवस्थाओं का अवलोकन किया। उन्हांेने किसानों तथा धान खरीदी से जुडे हुए लोगों से रूबरू होकर बातचीत की।
सचिव एवं कलेक्टर ने मंदिर हसौद और फिर उसके बाद खुटेरी, रीवा, मोखला, और आरंग मंडी में बनाये गए धान खरीदी केन्द्रों का अवलोकन किया। इन केन्द्रों में अधिकारियों और समिति के पदाधिकारियों ने बताया की उनके समिति में नया और पुराना बारदाना उपलब्ध है। किसानों द्वारा अपने बारदानें में धान लाकर ढेर लगाया जाता है और उसके बाद समिति द्वारा दिए गए बारदाने में 40-40 किलों धान भर कर भारत सरकार द्वारा निर्धारित मूल्य पर विक्रय किया जाता है। उन्होंने बताया कि इसके पूर्व किसानों द्वारा लाए गए धान सेम्पल की आर्द्रता नापी जाती है जो 17 प्रतिशत से कम होनी चाहिए। समिति के आर्द्रतामापी यंत्र और कांटा तौल का वेरिफिकेशन हो चुका है। समितियों में पर्याप्त संख्या में हम्माल रखे गए है। मोटा धान और पतला धान सहित आई आर 36 और एच एम टी धान रखने के लिए अलग चबूतरे बनाए गए है, जिन्हें नये और पुराने बारदाने में भरा जा रहा है।
सचिव एवं कलेक्टर ने इस अवसर पर स्वयं भी आर्द्रतामापी यंत्र से धान की आर्द्रता नापी और अपने सामने धान की तुलवाई की। किसानों ने तौल और आर्द्रतामापी के प्रति संतोष व्यक्त किया। कलेक्टर ने समिति प्रबंधकों और पटवारी आदि से यह सुनिश्चित करने को कहा कि केवल किसानों के धान को खरीदें। उन्होंने कहा ऐसे किसान जिन्होने अपनी जमीन को परती छोडा है, या अन्य फसल या सब्जी आदि लगाया है, उनसे धान नही लें। कलेक्टर ने हिदायत दी कि किसानों से निर्धारित एफ ए क्यू के अनुसार साफ सुथरा धान लें। खरीदा हुआ धान हर हालत में उसी दिन बारदाने में भरवा लें।
आकस्मिक अवलोकन के दौरान धान खरीदी केन्द्र मोखला में वहां के समिति प्रबंधक श्री रामानंद चंद्राकर द्वारा विक्रय हेतु लाए गए स्वयं के धान कि गुणवत्ता सही नहीं होने तथा उसमें निर्धारित मात्रा से अधिक धूल -कंकड आदि अधिक होने के कारण तथा कृषि उपज मंडी आरंग प्रांगण में बनाए गए धान खरीदी केन्द्र में प्रबंधक श्री संतोष साहू द्वारा बारदाना संबंधी नियमों का पालन नहीं करने और अव्यवस्था के कारण सचिव एवं कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की और उन्हें हटाने के निर्देश दिए। श्री रामानंद चंद्राकर का धान भी जब्त किया गया। उप पंजीयक सहकारिता श्री एन आर के चंन्द्रवंशी ने इन दोनों प्रबंधकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।
अवलोकन के अवसर पर अनुविभागीय दण्डाधिकारी श्री विनायक शर्मा ,खाद्य नियंत्रक श्री अनुराग भदोरिया, जिला सहकारी बैंक रायपुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एस.के. जोशी भी उपस्थित थे। रायपुर जिले में 82 समितियों के 126 धान खरीदी केन्द्रों के माध्यम से खरीदी का कार्य किया जा रहा है। धान खरीदी केन्द्रों में सर्मथन मूल्य पर धान खरीदी का कार्य किया जा रहा है जिसके कारण धान मोटा, महामाया, धान सरना के लिए 1815 रूपये प्रति क्विंटल दर निर्धारित है। इसी तरह धान ए ग्रेड पतला, धान एच एम टी, धान आई आर 36 के लिए 1835 रूपये का दर निधार्रित है। मक्का का दर प्रति क्विंटल 1760 रूपये निर्धारित है।

About the author

Mazhar Iqbal #webworld

Indian Journalist Association
https://www.facebook.com/IndianJournalistAssociation/

Add Comment

Click here to post a comment

Follow us on facebook

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0504044