Banking New Dehli

Nationwide strike of banks against privatization, know which services may be affected

10 lakh bank employees will be on strike to protest against privatization
Bankers’ strike will be held on Monday and Tuesday
Banking services likely to be affected due to strike

New Delhi / The strike may affect services such as deposits and withdrawals, check clearance and loan acceptance. It is a matter of relief that private banks will continue to operate during the strike. Banking services across the country could be affected on Monday and Tuesday due to a nationwide strike by employee organizations. According to the statement of the United Forum of Banking Union, a joint organization of nine unions, about 10 lakh employees and officers of banks will participate in the strike to protest against the proposed privatization. In such a situation, services like deposit and withdrawal, check clearance and loan acceptance can be affected due to the strike. It is a matter of relief that private banks will continue to operate during the strike. Several state-run banks, including the State Bank of India (SBI), have informed their customers that if a strike occurs, their normal functioning may be affected in branches and offices. Banks also informed that they are taking necessary steps for the smooth functioning of bank branches and offices.
In the Union Budget presented last month, Finance Minister Nirmala Sitharaman announced the privatization of two public sector banks in the next financial year as part of the government’s disinvestment program. All India Bank Employees Union (AIBEA) General Secretary CH Venkatachalam said that the meetings with the Additional Chief Labor Commissioner on March 4, 9 and 10 were going to be inconclusive and hence the strike would take place. Members of UFBU include All India Bank Employees Association (AIBEA), All India Bank Officers Confederation (AIBOC), National Confederation of Bank Employees (NCBE), All India Bank Officers Association (AIBOA) and Bank Employees Confederation of India (BECI) etc. Huh. Indian National Bank Employees Federation (INBEF), Indian National Bank Officers Congress (INBOC), National Organization of Bank Workers (NOBW) and Nation Organization of Bank Officers (NOBO) are also involved in the strike.

बैंकों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल निजीकरण के खिलाफ, जानें किन सेवाओं पर पड़ सकता है प्रभाव

निजीकरण के विरोध में हड़ताल पर रहेंगे 10 लाख बैंक कर्मचारी
सोमवार और मंगलवार को होगी बैंककर्मियों की हड़ताल
हड़ताल की वजह से बैंकिंग सेवाएं प्रभावित रहने की आशंका

नई दिल्ली / हड़ताल के कारण जमा और निकासी, चेक क्लीयरेंस और ऋण स्वीकृति जैसी सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। राहत की बात है कि हड़ताल के दौरान प्राइवेट बैंकों में कामकाज जारी रहेगा। कर्मचारी संगठनों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल के चलते सोमवार और मंगलवार को देश भर में बैकिंग सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। नौ यूनियनों के सम्मिलित संगठन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंकिंग यूनियन के बयान के मुताबिक प्रस्तावित निजीकरण के विरोध में बैंकों के लगभग 10 लाख कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल में भाग लेंगे। ऐसे में हड़ताल के कारण जमा और निकासी, चेक क्लीयरेंस और ऋण स्वीकृति जैसी सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। राहत की बात है कि हड़ताल के दौरान प्राइवेट बैंकों में कामकाज जारी रहेगा। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) सहित कई सरकारी बैंकों ने अपने ग्राहकों को सूचित किया है कि यदि हड़ताल होती है, तो उनका सामान्य कामकाज शाखाओं और कार्यालयों में प्रभावित हो सकता है। बैंकों ने यह भी बताया कि वे बैंक शाखाओं और कार्यालयों के सुचारू संचालन के लिये आवश्यक कदम उठा रहे हैं।
पिछले महीने पेश किये गये केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सरकार के विनिवेश कार्यक्रम के तहत अगले वित्त वर्ष में सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा कि 4, 9 और 10 मार्च को अतिरिक्त मुख्य श्रम आयुक्त के साथ हुई बैठकें बेनतीजा रही अत: हड़ताल होगी। यूएफबीयू के सदस्यों में ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन (एआईबीईए), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन (एआईबीओसी), नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ बैंक इम्प्लॉइज (एनसीबीई), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (एआईबीओए) और बैंक इम्प्लॉइज कन्फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईसीआई) आदि शामिल हैं। इंडियन नेशल बैंक एम्पलाईज फेडरेशन (आईएनबीईएफ) , इंडियन नेशनल बैंक आफीसर्स कांग्रेस (आईएनबीओसी) , नेशनल आर्गनाइजेशन आफ बैंक वर्कर्स (एनओबीडब्ल्यू) और नेशन आर्गनाइजेशन आफ बैंक आफीसर्स (एनओबीओ) भी हड़ताल की अपनी में शामिल हैं।

About the author

Mazhar Iqbal

Indian Journalist Association
https://www.facebook.com/IndianJournalistAssociation/

Add Comment

Click here to post a comment

Live Videos

Breaking News

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0268207