Chhattisgarh COVID-19

सरकारी नियम – कानून म बदलाव के जरुरत….

कार्यकारी संपादक तरुण कौशिक की कलम से…

छत्तीसगढ़ सरकार वर्तमान सियान भूपेश बघेल के कुसल नेतृत्व म कांग्रेस सरकार ल छत्तीसगढ़िया सरकार के दरजा मिले हे ,जउन ह छत्तीसगढ़िया परंपरा, रिती- रिवाज, संस्कृति ल बचाए के काम बूता करत हे फेर आज सरकारी नियम – कानून म बदलाव के अब्बड़ जरुरत हवै ,जेखर से कोनो ल परेसानी नई होए अउ ए बदलाव आम लोगन के हित म करें जाए जेखर से कोनों आदमी- औरत मन सरकारी नियम- कानून से परेसान होके खुदकुशी मत कर सके । आज हमर छत्तीसगढ़ सरकार अउ सरकारी काम बूता ले गरीब अउ न्याय के आस म बईठे लोगन मन सरकार से अब्बड़ गुस्सा हे ,जेखर कई कारण हे फेर हमर छत्तीसगढ़िया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ए गोठ – बात ल ओखर जिम्मेदार अफसर मन ओखर तक नई पहुंचत हे ,जेखर उदहारण मोर द्वारा बेरा- बेरा म मुख्यमंत्री ल व्यक्तिगत लिखें गे चिठ्ठी मन आए ।
कांग्रेस ह सत्ता म आए ले पहिली चुनई के बेरा म कई वादा,घोषणा करे हे ,ऐखर संग म एक नारा दिए रहिस ‘ सबसे संग होहए न्याय , गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ ‘ फेर आज ए नारा ह कोरा झूठ लगत हे । का बर के बेरोजगार आदमी ह मुख्यमंत्री के सरकारी घर – दूवारी के तीर म खुदकुशी करें के परयास करिस अउ न्याय अउ गरीब मन ल एक ही समास्या, मांग ल लेके जनपद पंचायत ,पुलिस थाना ले के मुख्यमंत्री, राज्यपाल तक चिठ्ठी लिखें के घलो बाद न्याय नई मिल पावत हे । सरकारी नियम – कानून के बदलाव के गोठ – बात ए कारण कहे ल पड़त हे के आज छत्तीसगढ़िया सरकार म उच्च न्यायालय के आदेस के पालन नई होत हवै, मरे सरकारी कर्मचारी मन के वारिस ल उच्च न्यायालय के आदेस के घलो बाद भी अनुकम्पा म नौकरी नई मिलत हे ।सरकारी कर्मचारी मन ल सेवानिवृत्त होए के बाद पेंशन, अउ दूसर तरह के पईसा पाए ल दफ्तर- दफ्तर के चक्कर काटे ल पड़त हे । पति- पत्नी अउ सेवानिवृत्त के तीर म होए के संगेसंग जरुरतमंद सरकारी कर्मचारी मन के नियम म होए के घलो बाद स्थानांतरण नई होत हवै ,बने पईसा दिवाईया मन के तुरंत सब काम होत हवै जेखर से रिश्वतखोरी ल बढ़ावा मिलत हे । किसान मन के मेहनत के अनुरूप मेहतना, शिक्षित मन ल रोजगार नई मिलत हे , छोटे – छोटे समास्या, मांग ल मुख्यमंत्री तक करे के घलो बाद ए कामबूता नई होत हवै । महिला कानून के धारा 354,376 म एकतरफा एफआईआर दर्ज होए ले कई निर्दोष मन जेल जावत हे जउन ह गलत आए ,एमा संशोधन होना जरूरी हे फेर हजारों पईत चिठ्ठी लिखें के बाद भी लोकसभा, विधानसभा म ऐखर बर संशोधन कानून पास नई करे जात हे ।नेता मन अपन फायदा के सबो कानून ल मिलजुल के पास करत हे ।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सरकार ह न्याय के गोठ -बात करथें फेर एक चोरी कराईया बर तुरंत एफआईआर दर्ज हो जाथें फेर सरकारी रूपिया चोरी कराईया यानी कि भ्रष्टाचारी मन के खिलाफ जांच म भ्रष्टाचार प्रमाणित होए के घलो बाद एफआईआर दर्ज नई होए ?
कई अईसे अउ कारण हे जेखर से लोगन मन सरकारी दफ्तर के चक्कर काट-काट के हार मान जाथें अउ चारों कोती अंधियार होए अउ सरकार ,सरकारी अफसर मन के कार्यप्रणाली से न्याय मांग – मांग के हार माने के कारण लोगन मन के जिंदगी नरक बन जाथें इहीं कारण आए के लोगन मन जिंदगी ले हार मान के मउत ल अपनाते , ए सब ल सोच – बिचार करे के जरुरत हवै अउ सरकारी नियम – कानून म बदलाव के अब्बड़ जरुरत हे ताकि सबो के संग न्याय हो सके ।
मय बेरा – बेरा म पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के संगेसंग वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ल आम लोगन के दुख तकलीफ़, पीरा ल देख के चिठ्ठी-पत्री लिखत आवत हव फेर मोला लगत हे के मुख्यमंत्री के जिम्मेदार अफसर मन व्यक्तिगत चिठ्ठी – पत्री ल घलो सरकारी चिठ्ठी मान के मुख्यमंत्री ल ऐखर से अवगत नई कराए जात हे । अभी इहीं कहना बने गोठ- बात होए के छत्तीसगढ़िया सरकार यानि कि कांग्रेस सरकार म सरकारी नियम – कानून ल लोगन के हित म बदलना अब्बड़ – अब्बड़ जरुरी हे जेखर से सरकार ह नवा छत्तीसगढ़ गढ़े म कामयाब हो सकही नई तव फेर रमन सरकार के तरह भूपेश दाऊ ल हार के मुंह देखें ल पड़ही !

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0184269