CG FOREST

बागबाहरा के हाड़ाबांध में कृषक “किसान वृक्ष मित्र योजना” से बदल रहे तकदीर

अलताफ़ हुसैन की कलम से

रायपुर। घटते वन बढ़ते प्रदूषण असंतुलित जलवायु वातावरण एवं परिवर्तित होते ऋतु की मार से ग्लोबल वार्मिंग ने विश्व मे होने वाली प्राकृतिक आपदा संकट और सुरक्षा के दृष्टिकोण से छ्ग प्रदेश का वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग नाना प्रकार के जतन कर हरियाली लाने का प्रयास कर रहा है इसके लिए प्रदेश भर के रिक्त पड़त भाटा बंजर भूमि मे हरे भरे पेड़ पौधों का प्लांटेशन कर हरियर छ्ग योजना के तहत हरित क्रांति लाने सदैव प्रयास रत रहा है वही पूर्ववर्ती सरकार जल संरक्षण के उद्देश्य से वन क्षेत्रों मे नरवा जैसी योजनाओं के मध्यम से वर्षा ऋतु के व्यर्थ जल को स्टॉप डेम, चेक डेम का निर्माण कर जल संकलित कर वनों एवं कृषकों के फसल मे नमी युक्त वातावरण निर्मित करने का प्रयास किया था वहीं आम जन के स्वास्थ की चिंता करते हुए प्रदूषण मुक्त माहौल के दृष्टिकोण से ग्रामीण क्षेत्र के रिक्त भू खंडों नगर परिषद, पालिकाओं पंचायतों के आसपास क्षेत्र मे धार्मिक आस्था से जुड़े पेड़ पौधों का निर्माण कर आकर्षक हरियाली युक्त खुशनुमा कृष्ण कुंज का निर्माण कर स्वच्छ, एवं स्वस्थ्य वर्धक वातावरण निर्मित किया गया इसी शृंखला मे पूर्ववर्ती सरकार ने वन क्षेत्रों का रकबा बढ़ाने के उद्देश्य से मुख्य मंत्री वृक्ष संपदा योजना का शुभारंभ किया गया था जो वर्तमान मुख्य मंत्री श्री विष्णु देव साय ने उक्त योजना किसान वृक्ष मित्र योजना के नाम से प्रारंभ किया गया जो प्रदेश भर के किसानो के लिए वरदान साबित हो रहा है साथ ही इसके आशातीत सफलतम परिणाम भी परिलक्षित हो रहे है।
वित्तीय वर्ष 2022-2023 मे उक्त किसान वृक्ष मित्र योजना के प्रारंभिक चरण मे लाभार्थी कृषक काफी असमंजस की स्थिति मे थे कि खेत खलिहानो मे किसान वृक्ष मित्र योजना से किस प्रकार लाभान्वित होंगे परंतु वन विभाग के प्रशिक्षित सिद्ध हस्त अनुभवी वन कर्मीयों द्वारा किसान वृक्ष मित्र योजना और इसके भविष्य मे होने वाले लाभ को प्रशिक्षण के मध्यम से कृषको को समझाया तब बहुत से हितग्राही कृषक अपने खेतों मे बहुत से इमारती वृक्ष, सगौन, बांस, चंदन,इत्यादि का रोपण किया जिसके एक ही वर्ष मे सार्थक परिणाम सामने आने लगे है इस संदर्भ मे महासमुंद के युवा उर्जावान वन मंडलाधिकारी पंकज राजपूत बताते है कि किसान वृक्ष मित्र योजना का लाभ उन कृषकों को प्राप्त होगा जो अपनी निजी भूमि का सही मुल्यांकन कर शासन की उक्त योजना का लाभ उठा रहे है तथा टेशू कल्चर सगौन रोपण सहित बांस, चंदन नीलगिरी जैसे भिन्न भिन्न प्रजाति के पौधों का रोपण कर लाभान्वित हो रहे है रोपण एक वर्ष मे अच्छा ग्रोथ कर रहे है महासमुंद डी.एफ.ओ. पंकज राजपुत आगे बताते है कि किसान वृक्ष मित्र योजना का समुचित लाभ हितग्राही कृषक आने वाले पांच,से दस पंद्रह वर्ष पश्चात भविष्य निधि के रूप मे उठा सकेंगे महासमुंद डीएफओ. राजपूत आगे बताते है इसके लिए वन एवं जलवायु,परिवर्तन विभाग सभी प्रकार के वित्तीय सहयोग सामाग्री सुविधाए उपलब्ध करा रही है जिसमे बीज से लेकर पेड़ पौधे, रोपण यहाँ तक उपचार निंदाई गुड़ाई कार्य तक दो वर्षों तक वितीय सहयोग सीधे बैंक खाते के मध्यम से हितग्राहियों को प्रदान कर रही है केवल उन्हे स्वयं की भूमि एवं रोपित पौधों की सिंचाई, सुरक्षा देखरेख इत्यादि की ही सुविधा उपलब्ध करानी है इसमें वन विभाग को क्या लाभ मिलेगा पूछने पर महासमुंद डी.एफ.ओ. पंकज राजपूत बताते है कि आने वाले पांच से दस-पंद्रह वर्षों पश्चात कृषकों को आर्थिक लाभ प्राप्त होगा इसके लिए, सगौन, बांस सहित अन्य रोपित उपज के लिए वन विभाग बाजार भी उपलब्ध कराएगी जिसके लिए समर्थन मूल्य में काष्ठ क्रय कर विभाग अंतर लाभांश का अंश लाभ पश्चात शत प्रतिशत राशि तत्कालिक बाजार मूल्य का लाभ हितग्राहियों को उनके सीधे बैंक खाते मे डाली जाएगी बताया जा रहा है कि इसके लिए कुछ कंपनी से एम ओ यू भी किया जा चुका है महासमुंद वन मंडलाधिकारि पंकज राजपूत आगे बताते है कि वन विभाग की मंशा यह है कि वनों का रकबा और क्षेत्रफल मे इजाफा हो वन क्षेत्र का अस्तित्व विस्तारित हो उन्होंने बताया वन मंडल महासमुंद सहित प्रदेश भर मे जगह जगह किये जा रहे प्लांटेशन, नगर वन, कृष्ण कुंज, बिगड़े वनों का सुधार किसान वृक्ष मित्र योजना इसी का एक उदाहरण प्रारूप है जिससे वन क्षेत्र मे वृद्धि एवं हरियाली के साथ प्रदूषण मुक्त जलवायु परिवर्तन एवं ग्लोबल वार्मिंग से लड़कर परिवर्तित होते असंतुलित वातावरण को संतुलन किया जा सके। वही महासमुंद के अनुभवी एस.डी.ओ. वाहिद खान साहब बताते है कि महासमुंद वन मंडल क्षेत्र जो सर्वाधिक प्रदेश का सबसे बड़ा वन मंडल क्षेत्र है जहां पर किसान वृक्ष मित्र योजना का बेहतर परिणाम सामने आए है इसे देखते हुए वन मुख्यालय के अंतर्गत संपूर्ण प्रदेश मुख्यालय मे विगत एक वर्षों मे योजना लाभ का लक्ष्य लगभग तीन लाख चार सौ तिरसठ पेड़ लगाए गए है जिसकी वर्तमान स्थित अस्सी प्रतिशत अर्थात संतोष जनक है यह स्थिति मई 2024 मे और वृद्धि होने की संभावना व्यक्त की गई है महासमुंद उप वनमंडलाधिकारी वहिद खान आगे बताते है कि सभी सागौन एवं अन्य पौधे अनुसंधान विस्तार लैब मे टेशू कल्चर के मध्यम से आधुनिक पद्धति से उगाए गए पौधे है जिसका ग्रोथ समान्य प्राकृतिक पौधों की तुलना मे बड़ी तेजी के साथ कम समय मे बढ़त बनाए रखता है यही वजह है कि रोपित पौधे वर्तमान समय मे जीवित और स्वस्थ्य स्थिति मे है और लगातार ग्रोथ कर रहे है इसका अंदाज इसी से लगाया जा सकता है कि इसकी ऊँचाई दस से बारह फिट ऊँची पहुँच चुकी है महासमुंद् उपवन मंडलाधिकारी वहीद खान आगे बताते है कि किसान वृक्ष मित्र योजना का लाभ आस पास के ग्रामीण लगातार उठा रहे है वित्तीय वर्ष 2023-2024 मे आम हितग्राही स्वमेव विभाग कर्मियों से संपर्क कर किसान वृक्ष मित्र योजना का लाभ उठाने पंजीयन करवा रहे है वन मंडल महासमुंद क्षेत्र मे इसका ग्राफ लगातार बढ़ रहा है बागबाहरा परिक्षेत्र अंतर्गत खल्लारी परिवृत के हाड़ा बंध के बहुत से ग्रामीण शासन के इस किसान वृक्ष मित्र योजना से लाभांवित हो रहे है।
इस संदर्भ मे बाग़बाहरा परक्षेत्र के संवेदन शील ऊर्जवान कर्तव्य निष्ठ, समर्पित, समभाव, जीवट एवं जुझारू प्रवृत्ति के परिक्षेत्राधिकारी लोक नाथ ध्रुव बताते है कि बागबाहरा परक्षेत्र के खल्लारी परिवृत् हाड़ाबंध ग्रमीणों कि तकदीर बदल रही है वहां की मिट्टी काफी उपजाऊ है बांस, नीलगिरी के पौधे लगातार ग्रोथ कर रहे है वही चंदन की स्थिति तनिक नाजुक है संभवतः वहाँ की मिट्टी जलवायु, वातावरण उसके अनुकूल नही होना बताया जा रहा है बागबाहरा परिक्षेत्राधिकारी लोक नाथ ध्रुव बताते है कि बागबाहरा खल्लारी परिवृत् के हाड़ाबंध ग्राम क्षेत्र मे 155 हितग्राही उक्त योजना का लाभ उठा रहे है कुल 3.13 हेक्टेयर में लक्ष्य प्राप्ति है वही बहुत से कृषक हितग्राही योजना का लाभ उठाने प्रयासरत है किसान वृक्ष मित्र योजना के बागबाहरा, खल्लारी परिवृत मे सफलतम रोपण के संदर्भ मे परिक्षेत्राधिकारी श्री ध्रुव बताते है कि उपजाऊ मिट्टी एवं पहाड़ी क्षेत्र मे ढलानी क्षेत्र होने के कारण खेत मे बारह मासी नमी बनी रहती है जिसके बेहतर परिणाम परिलक्षित हो रहे है तथा सभी रोपित पौधे स्वस्थ्य एवं ग्रोथ कर रहे है।
बागबाहरा रेंजर लोकनाथ ध्रुव बताते है कि वन विभाग का लक्ष्य वन क्षेत्रों को हरा भरा बनाना है इसके लिए जन भागीदारी सुनिश्चित कर खेत खलिहान जो फसल पश्चात पूरी तरह सपाट चटियल मैदानी क्षेत्र नज़र आता है छ्ग राज्य शासन ऐसी किसान वृक्ष मित्र योजना का सफल क्रियान्वयन लागू कर सपाट होते खेत खलियानो मे हरियाली विस्तार के साथ आर्थिक लाभ प्राप्त कर सकेंगे परिक्षेत्राधिकारी श्री ध्रुव आगे बताते है कि किसान वृक्ष मित्र योजना का सफल क्रियान्वयन के पीछे महासमुंद डीएफओ पंकज राजपूत, उप वन मंडलाधिकारि वहिद खान का बहुत बड़ा योगदान रहा है जो समय समय पर वन कर्मचारियों और हितग्राहियों के खेतो मे जाकर दिशा निर्देश देकर मॉनिटरिंग करते रहे है वही मैदानी अमलो मे खल्लारी परिवृत के काष्ठागार प्रभारी डिप्टी नरेंद्र चंद्राकर पूरी तनम्यता से लगातार हाड़ाबंध के कृषकों से संपर्क कर योजना को सफल बनाने मे पूर्ण योगदान दिया।

About the author

Mazhar Iqbal #webworld

Indian Journalist Association
https://www.facebook.com/IndianJournalistAssociation/

Add Comment

Click here to post a comment

Live Videos

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Our Visitor

0504351